आंध्र प्रदेश के चितूर में एक व्यक्ति ने इसलिए मार लिया, क्योंकि उसे शक हुआ कि वह जानलेवा वायरस कोरोना से संक्रमित हो गया है. चीन में इस वायरस से अभी तक 11 सौ से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. यह वायरस करीब 20 देशों में फैल चुका है. 50 वर्षीय व्यक्ति बालाकृष्ण्य को लगा कि यह इंफेक्शन उसे परिवार और गांव के अन्य लोगों में फैल जाएगा. उसे यह शक उस वक्त हुआ, जब जुकाम होने पर वह अस्पताल पहुंचा तो डॉक्टरों ने उसे मास्क पहनने की सलाह दी. वह इलाज के लिए तिरुपति के रुइया अस्पताल गया था. उनके बेटे मालामुरली ने बताया, ‘वह दिल की बीमारी को लेकर अस्पताल चेकअप के लिए गए थे.

डॉक्टरों ने उसे मास्क इस्तेमाल करने की सलाह दी. उन्होंने यह गलत तरीके से समझ लिया, उन्हें लगा कि वह कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं.’

साथ ही उन्होंने बताया, ‘वह हमें पास भी नहीं आने देते थे. मैंने उन्हें बताया कि आपको इंफेक्शन नहीं है, लेकिन उन्होंने सुना ही नहीं. मुझे लगता है कि अगर उनकी अच्छे से काउंसलिंग होती तो वह अच्छे से सुनते. उन्होंने इंटरनेट पर लक्षणों को लेकर कई सारे वीडियो देखा और फिर उन्हें लगा कि ये लक्षण तो उन्हें भी हैं. सोमवार को उन्होंने हमें घर में बंद कर दिया, इससे पहले की हम उनकी मदद कर सकते उन्होंने खुद को पेड से लटका लिया.’

आंध्र प्रदेश में अभी तक कोरोना वायरस का एक भी केस सामने नहीं आया. लेकिन केरल में पिछले कुछ सप्ताह में तीन केस सामने आए थे. ये तीनों मरीज चीन के वुहान शहर से लौटे थे.
बता दें, चीन में कोरोनावायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 1,113 हो गई है, जबकि कन्फर्म मामलों की संख्या भी बढ़कर 44,653 हो गई है. चीनी प्रशासन ने बुधवार को यह जानकारी दी. समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने बताया कि 31 प्रांतीय स्तर के क्षेत्रों और शिंजियांग प्रोडक्शन एंड कंस्ट्रक्शन कॉर्प्स से मंगलवार को कोरोनवायरस संक्रमण के कन्फर्म 2,015 नए मामलों और 97 मौतों की जानकारी मिली है.

सिन्हुआ ने चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के हवाले से बताया कि इनमें हुबेई प्रांत में 94 और हेनान, हुनान तथा चोंगकिंग में एक-एक मौत हुई है. आयोग ने कहा कि मंगलवार को 3,342 नए संदिग्ध मामले सामने आए. मंगलवार को ही 871 मरीज गंभीर रूप से बीमार पड़ गए और 744 लोगों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई.
आयोग ने कहा कि 8,204 मरीजों की हालत गंभीर बनी हुई है और 16,067 लोगों के वायरस से संक्रमित होने का संदेह है. ठीक होने के बाद कुल 4,740 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है.

आयोग ने कहा कि 4,51,462 लोगों के कोरोनावायरस पीड़ितों से करीबी संपर्क में होने का पता चला है, उनमें से 30,068 को मंगलवार को चिकित्सा निगरानी से छुट्टी दे दी गई है, जबकि 1,85,037 अन्य अभी भी चिकित्सा निगरानी में हैं. मंगलवार के अंत तक, हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र (एसएआर) में एक की मौत सहित 49 मामलों की पुष्टि हुई, जबकि 10 मकाऊ एसएआर में और ताइवान में 18 मामलों की पुष्टि हुई है. मकाऊ और ताइवान में एक-एक मरीज को ठीक होने के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है.

(With inputs from NDTV)